कुछ पल चलना चाहता हु मैं ,
इस रहगुजर के खूबसूरत लमहो को ,
पाना चाहता हु मैं ,
मैं नही जानता की मेरी मंजिल
मुझे मिलेगी या नही
मंजिल से बेख़बर रहकर
कुछ पल चलना चाहता हु मैं